ताज़ा समाचार
अशोक निर्मल का अभिनंदन और रचना पाठ शुक्रवार को || "वर्दी वाले डिपार्टमेन्ट मे आऊँगा ये सोचा भी न था" - बी मारिया कुमार***** दुष्यंत कुमार संग्रहालय मे मारिया कुमार ने पलटे अतीत के पन्ने || दुष्यन्त संग्रहालय में �वो दिन वो उजाले� में जयन्त देशमुख ने याद किये गर्दिश के दिन **** सब कुछ होने के बाद भी अजीब सा खालीपन लगता है : जयन्त देशमुख || विश्व संग्रहालय दिवस पर दुष्यन्त संग्रहालय में �शब्द-चित्र� *********** वरिष्ठ रंगकर्मी हमीद मामू को अंजय तिवारी स्मृति सम्मान || �वो दिन वो उजाले� में इस बार सोमवार को श्री जयन्त देशमुख *********** दुष्यन्त संग्रहालय में सिनेमा और रंगमंच के संस्मरण साझा करेंगे जयन्त देशमुख ||
समाचार
अशोक निर्मल का अभिनंदन

अशोक निर्मल का अभिनंदन और रचना पाठ शुक्रवार को

अशोक निर्मल का अभिनंदन और रचना पाठ शुक्रवार को

अशोक निर्मल का अभिनंदन

अशोक निर्मल का अभिनंदन और रचना पाठ शुक्रवार को

अशोक निर्मल का अभिनंदन

अशोक निर्मल का अभिनंदन और रचना पाठ शुक्रवार को

अशोक निर्मल का अभिनंदन

अशोक निर्मल का अभिनंदन और रचना पाठ शुक्रवार को

अशोक निर्मल का अभिनंदन और रचना पाठ शुक्रवार को

अशोक निर्मल का अभिनंदन

अशोक निर्मल का अभिनंदन और रचना पाठ शुक्रवार को

अशोक निर्मल का अभिनंदन

अशोक निर्मल का अभिनंदन और रचना पाठ शुक्रवार को

अशोक निर्मल का अभिनंदन

अशोक निर्मल का अभिनंदन और रचना पाठ शुक्रवार को

अशोक निर्मल का अभिनंदन

अशोक निर्मल का अभिनंदन और रचना पाठ शुक्रवार को

अशोक निर्मल का अभिनंदन

अशोक निर्मल का अभिनंदन और रचना पाठ शुक्रवार को

अशोक निर्मल का अभिनंदन और रचना पाठ शुक्रवार को

भोपाल। दुष्यंत कुमार स्मारक पांडुलिपि संग्रहालय द्वारा वरिष्ठ गीतकार और संग्रहालय की स्थापना परिषद् के अध्यक्ष श्री अशोक निर्मल का अभिनंदन और रचना पाठ शुक्रवार 30 सितंबर को शाम 6:00 बजे होगा। श्री निर्मल के जन्मदिन के अवसर पर नगर की अनेक साहित्यिक संस्थाओं द्वारा भी सम्मान किया जाएगा ।

यह जानकारी देते हुए दुष्यंत कुमार स्मारक पांडुलिपि संग्रहालय के निदेशक राजुरकर राज ने बताया कि नगर की साहित्यक संस्थाओं और साहित्यकारों की ओर से श्री अशोक निर्मल का अभिनंदन किया जाएगा । साथ ही श्री निर्मल अपनी चुनिंदा रचनाओं का पाठ भी करेंगे। इस आयोजन के संयोजक डॉ विमल कुमार शर्मा होंगे। समारोह में निर्दलीय प्रकाशन, प्रभात साहित्य परिषद, कला मंदिर, बाल साहित्य शोध संस्थान, नाट्य संस्था रंग समूह सहित अनेक संस्थाओं के पदाधिकारी श्री निर्मल का अभिनंदन करेंगे ।

Generic placeholder thumbnail

शिल्प संग्रहालय, नई दिल्ली

शिल्प संग्रहालय, जिसका औपचारिक नाम राष्ट्रीय हस्तशिल्प एवं हथकरघा संग्रहालय है, नई दिल्ली में पुराना किला के सामने भैरों मार्ग पर प्रगति मैदान परिसर में स्थित है।[2] यह दिल्ली के प्रमुख पर्यटक स्थलों में से एक है।.

Generic placeholder thumbnail

राजकीय संग्रहालय, अजमेर-

अजमेर में स्थित इस राजकीय संग्रहालय को ‘मैगजीन' के रूप में भी जाना जाता है। यह “अकबर के किले (मैगजीन किले)” के अंदर स्थित है। इसे लॉर्ड कर्जन और भारत में पुरातत्व विभाग के तत्कालीन महानिदेशक सर जॉन मार्शल की पहल के तहत अक्टूबर 1908 में स्थापित किया गया था। बाद में अपने पहले अधीक्षक पंडित गौरीशंकर हीराचंद ओझा द्वारा अपनी प्रदर्शनी के माध्यम से क्षेत्र की सांस्कृतिक विरासत की ओर लोगों का ध्यान केंद्रित करने के उद्देश्य से इसे विकसित किया गया। इस संग्रहालय में मुख्य रूप से मूर्तियां, शिलालेख, पूर्व ऐतिहासिक अनुभाग, लघु चित्रों, अस्त्र-शस्त्र, कवच और कला और शिल्प की वस्तुओं को प्रदर्शित किया गया है।.

Generic placeholder thumbnail

एश्मोलियन संग्रहालय

ऐशमोलियन संग्रहालय (Ashmolean Museum) अपनी तरह का दुनिया मे पहला संग्रहालय माना जाता है। कुछ लोग इसे पहला संग्रहालय भी मानते हैं लेकिन तथ्यों के अभाव मे इसे पहला यूनिवर्सिटी संग्रहालय भी कहा जाता है।.

Generic placeholder thumbnail

वो दिन वो उजाले

वो दिन वो उजाले� में इस बार राजेश जोशी ने दुष्यन्त संग्रहालय में साझा किये अपने संस्मरणदो बार घर से भागा और अपहरण का किस्सा गढ़ा .